d8eef6a56c99d87b81e4fd3ff23419d8d21bfd52

इन 4 आयुर्वेदिक तरीकों से सुधारें पाचन क्रिया(digestive system), निकल जाएगी शरीर की सारी बीमारियां

Follow on

पाचन क्रिया हमारे शरीर के महत्तपूर्ण हिस्सों(part) में से एक है। यह हमारे शरीर में गए खाने को पचाता है और हमे ऊर्जा(energy) प्रदान करता है। एक स्वस्थ पाचन क्रिया शरीर में गए खाने को पचाके हमे उस में से अधिकतम पोषक तत्वों को शरीर के हर हिस्से तक पहुंचाता है। परन्तु हम सबको किसी न किसी मौके पर बुरी पाचन क्रिया(digestive-system) का अनुभव हुआ है। पाचन तंत्र के अंदर मौजूद अच्छे और बुरे बैक्टीरिया के असंतुलन से हमे ऐसा अनुभव होता है। यह संतुलन निद्रा, दवाइयाँ, ज्यादा मात्रा में मीठा लेना और शराब के सेवन से बिगड़ जाता है।

आयुर्वेद में पाचन तंत्र(digestive system) को अग्नि के समान माना जाता है। पाचन तंत्र(digestive system) को शरीर का ऊर्जा स्त्रोत्र माना जाता है। शरीर में उत्पादित हर शक्ति का ईजाद इसी पाचन तंत्र से ही होता है। पाचन तंत्र को सही और स्वस्थ रखने के 4 टिप्स।

1. ताज़ी हवा और कुछ आसन

जैसे की अग्नि को जलने के लिए हवा(Air) की जरुरत होती है, उसी प्रकार आपके पाचन तंत्र(digestive-system) की अग्नि को भी बरकरार रखने के लिए ताज़ी हवा की जरूरत होती है। सुबह घूमने जाना या फिर प्रकृति में लंबी पैदल यात्रा करने आपको ताज़ी हव का सेवनअनुभव करा सकते है।

2. ध्यान लगाना

अपनी फ़िक्रों और तनावों को दूर रखने का ध्यान लगाने से बेहतर उपाय शायद ही कोई होगा। हर रोज केवल 5 मिनट एकाग्रता से ध्यान लगाना आपको असंख्य लाभ दे सकता है। तनाव को दूर करने और आपकी तंत्रिकाओं को काबू में रखने वाला यह अभ्यास आपको क्यों भ्रम में डाल रहा है या फिर अापको क्या करना चाहिए

3. विषहरण क्रिया

आयुर्वेद पाचन तंत्र को विषहरण क्रिया से साफ़ रखने की सलाह भी देता है। विषहरण क्रिया हर एक इंसान के लिए अलगहो सकती है। विषहरण क्रिया से आप अपनी अग्नि को एक शक्तिशाली तरीके से फिरसे शुरू कर सकते है। विषहरण क्रिया से आप अपने अंदरूनी प्रणाली की मरम्मत कर उसे उसकी उच्चतम उत्पादकता पर पहुंचा  सकते है। विषहरण क्रिया फलो के जूस के सेवन से लेकर पंचकर्माथेरेपी तक विस्तारित है।

पाचन तंत्र के अंदर की अग्नि हर मनुष्य को सकिर्या और ऊर्जा से भरपूर रखती है। पाचन तंत्र में संतुलन बनाये रखना एक स्वस्थ एवं लम्बी जिंदगी को बढ़ावा देता है। इसीलिए, सभी को अपनी पाचन तंत्र की अखंडता को बरकरार रखना जरुरी है।

4. अधिक गुणों वाले खाद्य पदार्थो का सेवन करना

दिनचर्या में गुणवान खाद्य पदार्थो का आहार सेवन करना आपके पाचन तंत्र वाली अग्नि कोसुधार सकते है।आपके आहार में पर्याप्त मात्रा में सब्ज़िया एवं फल होना आपके पाचन तंत्र के लिए आवश्यक है।

मुख्य आकर्षण

  • यह हमारे शरीर में गए खाने को पचाता है और हमे ऊर्जा प्रदान करता है
  • पाचन क्रिया हमारे शरीर के महत्तपूर्ण हिस्सों में से एक है
  • आयुर्वेद में पाचन तंत्र को अग्नि के समान माना जाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

d8eef6a56c99d87b81e4fd3ff23419d8d21bfd52