दैनिक जीवन

Healthcare and beauty

अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत को हासिल हुई बड़ी उपलब्धि, लांच किया गया GSAT-29 सैटेलाइट

Follow on

भारत(india) ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में एक बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली है। ISRO ने बुधवार को तमिलनाडु के श्रीहरिकोटा से संचार उपग्रह GSAT-29 को लॉन्च कर दिया है। 3,423 किलोग्राम(kg) वजनी उपग्रह को प्रक्षेपण यान GSLV-MK3-D2 के जरिए श्री हरिकोटा रेंज स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के लॉन्चिंग पैड से प्रक्षेपित किया गया।

ये इस साल की ISRO की 5वीं लॉन्चिंग है। ये एक हाइथ्रोपुट संचार उपग्रह है। इसे जम्मू-कश्मीर और उत्तर-पूर्वी राज्यों के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि इससे इन राज्यों में संचार सुविधाएं बेहतर होंगी और इससे इंटरनेट की स्पीड भी बढ़ जाएगी|

बताया जा रहा है कि दागे जाने के मात्र 16 मिनट में ही जीएसएलवी-एमके 3 उपग्रह को पृथ्वी से लगभग 36 हजार किलोमीटर दूर कक्षा में स्थापित कर देगा। जीसैट-29 उपग्रह उच्च क्षमता वाले का/कू-बैंड के ट्रांसपोंडरों से लैस है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस उपग्रह का निर्माण भारत में ही किया गया है। ये सैटेलाइट पूरे समय भारत के ऊपर रहेगा और जैसे-जैसे धरती घूमेगी, वैसे-वैसे यह सैटेलाइट भी घूमता रहेगा। इस सैटेलाइट में कैमरे की क्वॉलिटी बहुत ही बेहतरीन है, जो पुराने सैटेलाइट्स से कहीं बेहतर है। इसकी मदद से कहां क्या गतिविधि हो रही है, इस पर नजर रखी जा सकती है।

बहरहाल, मौसम विभाग की ओर से चक्रवाती तूफान गाजा के तमिलनाडु तट की ओर बढ़ने तथा पंबान और कुडालोर के तटों के बीच गुजरने से पहले इस तूफान के और गंभीर होने की चेतावनी दी गयी थी। ISRO सूत्रों ने हालांकि कहा था कि चूंकि लॉंन्च पैड और लॉन्च यान दोनों ही सभी मौसम में प्रयोग के लिए उपयुक्त हैं, इसलिए यह कोई गंभीर चिंता का विषय नहीं है।

अगर आपके पास कोई अच्छा वीडियो या ख़बर हैं तो आप हमारे WhatsApp नंबर पर भेज सकते हैं। धन्यवाद

mob : 9610960089

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *