d8eef6a56c99d87b81e4fd3ff23419d8d21bfd52

heart attack के लक्षण, बचाव जानिए By:- Denikjiven

Follow on

दिल का दौरा(heart attack)

दिल का दौरा(heart attack) तब होता है जब दिल में रक्त की आपूर्ति में कमी होती है। रक्त के साथ दिल को ऑक्सीजन भी नहीं मिलता है और हृदय की मांसपेशियों को मरना शुरू हो जाता है। दिल का दौरा भी मायोकार्डियल इंफार्क्शन कहा जाता है। कुछ चेतावनी संकेत हैं जो दिल का दौरा इंगित कर सकते हैं। दिल के दौरे के लक्षणों में शामिल हैं:

1.छाती में दर्द 2.साँसों की कमी 3.उल्टी 4.ठंडा पसीना 5.ऊपरी शरीर असुविधा 6.अचानक चक्कर आना

दिल के दौरे के लक्षण(symptoms)

विभिन्न लोगों के दिल के दौरे के लक्षण विभिन्न होते हैं। वास्तव में, एक व्यक्ति को फिर से पीड़ित होने पर पर भी पहली बार से अलग लक्षण हो सकते हैं। आपको इन लक्षणों पर नजर रखने की आवश्यकता है:

1. सीने में बेचैनी:

यह दिल का दौरा पड़ने का सबसे आम लक्षण है। एक व्यक्ति को छाती के बीच में शुरू होने वाले दबाव, निचोड़ने, पूर्णता या दर्द की भावना महसूस हो सकती है। दर्द या असुविधा आमतौर पर कुछ मिनटों से अधिक समय तक रहती है। यह जा सकती है और फिर वापस भी लौट सकती है। यह आगे बांह और पीठ, या सिर और गर्दन तक भी फैल सकती है।

2. जबड़ा दर्द, दांत दर्द, सिरदर्द:

जबड़े, पीठ या बाहों में दर्द दिल की स्थिति का संकेत दे सकता है, खासकर यदि मूल का पता लगाना कठिन हो। विशेष रूप से, अगर परेशानी परिश्रम के साथ शुरू होती है या बिगड़ जाती है, और फिर कसरत छोड़ने पर बंद हो जाती है, तो आपको तुरंत एक चिकित्सक को दिखना चाहिए।

3. सांस की कमी:
सांस की कमी या जैसे आप हवा के लिए हांफ रहे हैं दिल का दौरा पड़ने का एक सामान्य लक्षण है। सांस की तकलीफ या साँस लेने में कठिनाई, चिकित्सकीय रूप से डिस्पेनिया के रूप में जाना जाता है।

4. थकान:
आप थकान या यहां तक कि हल्कापन भी, बेहोशी के साथ या बेहोशी के बिना महसूस कर सकते हैं। कुछ लोगों को दिल के दौरे के दौरान चिंता या डर का भी अनुभव होता है। अत्यधिक थकावट या अस्पष्टीकृत कमजोरी, कभी-कभी दिनों के लिए, दिल का दौरा पड़ने का लक्षण हो सकता है।

5. अनियमित दिल की धड़कन:
यदि आप कुछ सेकंड से अधिक के लिए अनियमित धड़कन महसूस करते हैं, या ऐसा अक्सर होता है, तो अपने डॉक्टर से बात करें। हालांकि, अनियमित दिल की धड़कन के लिए अन्य कारण भी हैं। लेकिन कभी – कभी, यह अलिंद विकम्पन नामक एक स्थिति का संकेत हो सकता है।

हार्ट अटैक से बचने के पांच उपाय

1. अपने कोलेस्ट्रोल स्तर को 130 एमजी/ डीएल तक रखिए- 

कोलेस्ट्रोल के मुख्य स्रोत जीव उत्पाद हैं, जिनसे जितना अधिक हो, बचने की कोशिश करनी चाहिए। अगर आपके यकृत यानी लीवर में अतिरिक्त कोलेस्ट्रोल का निर्माण हो रहा हो तब आपको कोलेस्ट्रोल घटाने वाली दवाओं का सेवन करना पड़ सकता है।

2. अपना सारा भोजन बगैर तेल के बनाएं लेकिन मसाले का प्रयोग बंद नहीं करें-

मसाले हमें भोजन का स्वाद देते हैं न कि तेल का। हमारे ‘जीरो ऑयल’ भोजन निर्माण विधि का प्रयोग करें और हजारों हजार जीरो ऑयल भोजन स्वाद के साथ समझौता किए बगैर तैयार करें। तेल ट्रिगलिराइड्स होते हैं और रक्त स्तर 130 एमजी/ डीएल के नीचे रखा जाना चाहिए। 

3. अपने वजन को सामान्य रखें-

आपका बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) 25 से नीचे रहना चाहिए। इसकी गणना आप अपने किलोग्राम वजन को मीटर में अपने कद के स्क्वेयर के साथ घटाकर कर सकते हैं। तेल नहीं खाकर एवं निम्न रेशे वाले अनाजों तथा उच्च किस्म के सलादों के सेवन द्वारा आप अपने वजन को नियंत्रित कर सकते हैं। 

4. अगर आप मधुमेह से पीड़ित हैं तो शकर को नियंत्रित रखें-

आपका फास्टिंग ब्लड शुगर 100 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए और खाने के दो घंटे बाद उसे 140 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए। व्यायाम, वजन में कमी, भोजन में अधिक रेशा लेकर तथा मीठे भोज्य पदार्थों से बचते हुए मधुमेह को खतरनाक न बनने दें। अगर आवश्यक हो तो हल्की दवाओं के सेवन से फायदा पहुँच सकता है। 

5. हार्ट अटैक से पूरी तरह बचाव-

हार्ट अटैक से बचने का सबसे आसान संदेश है और हार्ट में अधिक रुकावटें न होने दें। यदि आप इन्हें घटा सकते हैं, तो हार्ट अटैक कभी नहीं होगा।

इस के अलवा हेल्थ टिप्स के लिया




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

d8eef6a56c99d87b81e4fd3ff23419d8d21bfd52