d8eef6a56c99d87b81e4fd3ff23419d8d21bfd52

एड़ियों के दर्द से छुटकारा दिलाते हैं ये घरेलू नुस्खे,By:-Denikjiven

Follow on

आमतौर पर यह समस्या सबसे ज्यादा गर्भवती महिलाओं(pregnant women) और एथलीट(athletic) को होती है। ये दोनों ही प्रकार के लोग इस समस्या से ज्यादा पीड़ित रहते हैं। ध्यान देने वाली बात यह है कि इस समस्या को पूरी तरह तो इलाज होना थोड़ा मुश्किल होता है, लेकिन फिर भी अगर आप घर पर ही कुछ एक्सरसाइज(exercise) करें, तो इससे होने वाले दर्द से निजात पा सकते हैं।

ये एक्सरसाइज(exercise) इसके दर्द को काफी हद तक कम कर सकता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं, वही दो एक्सरसाइज(exercise), जिनकी मदद से आप एड़ियों में होने वाले दर्द से छुटकारा पा सकते हैं। आइए जानते हैं कैसे-

पूरे दिन की भाग-दौड़ के चलते हम सभी के पैरों में दर्द महसूस होता है। क्या आप जानते हैं कि प्लांटर(planter) फेशिया ऊतकों का वह समूह होता है, जो आपकी पैरों की एड़ियों की हड्डियों को पैर के अंगूठे से जोड़ता है। कई बार तो इसके नष्ट हो जाने के कारण मरीज को चलने-फिरने में भी काफी तकलीफ होती है। एड़ी के एक या उससे अधिक स्‍नायुबंधों में खिंचाव अथवा मांस फटना, एड़ी में मोच कहलाता है। एड़ी के स्‍नायुबंध लोचदार उत्तकों का समूह होते हैं, जो एड़ी की हड्डियों को अपने स्‍थान पर बांधे रखने का काम करते हैं।

छोटे जोड़ों के आकार एडि़यों में मोच आना आम बात है क्‍योंकि पैदल चलते हुए, दौड़ते हुए और कूदते समय एडि़यों पर काफी भार पड़ता है। अगर धरातल असमतल हो, तो यह खतरा और बढ़ जाता है।एड़ियों में दर्द की इस समस्या को प्लांटर फेशिआइटिस कहते हैं। एक शोध से पता चला है कि एड़ियों में दर्द और पैरों में दर्द की समस्या से पीड़ित मरीजों में लगभग 50 फीसदी मरीज प्लांटर फेशिआइटिस से पीड़ित हैं। इसके कई कारण हो सकते हैं। ज्यादा वजन बढ़ जाने या फिर गलत ढंग से ज्यादा चलने के कारण यह समस्या हो सकती है।

एड़ियों के दर्द के लिए 2 घरेलू नुस्खे(home remedy)

एड़ियों के दर्द(pain) की समस्या किसी भी व्यक्ति को हो सकती है। फिर चाहे वह किसी भी उम्र का क्यों न हो। अगर आप भी अफनी एड़ियों के दर्द से निजात पाना चाहते हैं, तो करें ये 2 तरह के एक्सरसाइज-

सबसे पहले एक तौलिए को मोड़कर अपने तलवों के नीचे रखें। अब एड़ियों को ऊपर की तरफ उठाएं और फुट को स्ट्रेच करें। इस पोजीशन(position)

में करीब 15 से 30 सेकेंड के लिए बनाए रखें। ऐसे ही ये प्रक्रिया दूसरे पैर से दोहराएं।
सबसे पहले पैर के तलवे के नीचे एक पानी की बोतल रख लें। इसके बाद इसे तलवों की मदद से एक मिनट तक अगे-पीछे करके रोल करें। यही सेम प्रक्रिया अपने दूसरे पैर से भी दोहराएं।
जिस स्‍थान पर आप पैदल चल, दौड़(race) अथवा कूद(jump) रहे हैं, उस धरातल को अच्‍छी तरह देख लें। और उसी के अनुसार अपना संतुलन बनाकर व्‍यवहार करें।किसी भी एथलीट एक्टिविटी(equal) से पहले स्‍ट्रेचिंग व्‍यायाम जरूर करें।

संतुलन बनाये रखने के लिए जरूरी व्‍यायाम आपकी मदद कर सकते हैं।
अच्‍छी क्‍वालिटी(quality) के जूते पहनें जो आपके खेल और पैरों के लिहाज से अनुकूल हों। अचानक तेज गति(speed) से न मुड़ें
दौड़(race), साइक्लिंग(cycling) और स्‍वमिंग(swimming) आदि से पैरों(foot) और टांगों(leg) को मजबूती प्रदान करने वाले व्‍यायाम करें।
अगर आपको एड़ी में कई बार मोच आ चुकी है, तो आपको स्‍ट्रेंथनिंग और बैलेंस(balance) एक्‍सरसाइज(exercise) करनी होंगी।
आपको बएड़ी को चोट से बचाने तथा उसे जल्‍द रिकवर(recover) करने के लिए ब्रेस बांधने की जरूरत होती है।
डॉक्‍टर से भी करें संपर्क

जैसे ही आपको एहसास हो कि आप चोटिल एड़ी पर वजन(weight) नहीं रख पा रहे हैं, तो फौरन डॉक्‍टर से संपर्क करें। इसके साथ ही अगर आपको एड़ी में दर्द(pain) और सूजन(swelling) बढ़ती नजर आये, तो भी आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए। गलत तरीके से मुड़ने, तेजी से सीढि़यां उतरने तथा अन्‍य कई कार्यों के कारण आपकी एड़ी में मोच आ सकती है। लेकिन, जरूरत इस बात की है कि आप इसकी गंभीरता को समझते हुए ही इसका इलाज करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

d8eef6a56c99d87b81e4fd3ff23419d8d21bfd52