d8eef6a56c99d87b81e4fd3ff23419d8d21bfd52

सेंसरयुक्त गोली,30 दिन तक करेगी पेट की निगरानी, पेट में छाले और कैंसर का पता लगाएगी

Follow on

वैज्ञानिकों ने पहली बार एक ऐसी गोली बनाई है, जो सेंसरयुक्त है। ये गोली निगलते ही आपके पेट में जाकर फूलने लगेगी और बॉल के आकार की हो जाएगी। इसके बाद गोली में लगे सेंसर आपके पेट से जुड़ी सभी जानकारियां कंप्यूटर को भेजने लगेंगे। इस गोली को मेडिकल इंडस्ट्री में एक बड़ी खोज के रूप में देखा जा रहा है क्योंकि ये गोली पेट के सभी रोगों जैसे- पेट का कैंसर, आंतों में छाले, लिवर, किडनी आदि के बारे में सटीक जानकारी देगी। खास बात यह है कि इस गोली में लगे सेंसर लगभग 30 दिन तक आपके पेट की निगरानी कर सकते हैं।

पेट के अंदर की सभी जानकारियां जुटाएंगे गोली में लगे सेंसर

ये खास गोली एमआईटी के इंजीनियर्स ने बनाई है। जानकारी जुटाने के साथ-साथ ये गोली पेट को भी कई तरह के सेंसर भेजेगी, जिससे पेट के बैक्टीरिया, वायरस और पीएच वैल्यू के बारे में भी जानकारी मिल सकेगी।

एमआईटी के एसोसिएट प्रोफेसर जुआने झाओ ने बताया कि, ‘हमारा सपना था कि हम जेल की तरह की एक स्मार्ट गोली बनाएं, जो खाने के बाद मरीज के पेट और सेहत के बारे में लंबे समय, जैसे कि एक महीने, तक निगरानी करती रहे। इस हाइड्रेजेल डिवाइस से हमें काफी उम्मीदें हैं। हो सकता है भविष्य में आप वजन घटाने के लिए ऐसी ही कुछ गोलियां खाएं, जिससे आपको आपका पेट भरा हुआ महसूस हो।

कैसे निकलेगी गोली पेट से बाहर

 

इस तकनीक की खास बात ये है कि इसमें मरीज को बिल्कुल भी दर्द नहीं होगा क्योंकि ये गोली पेट में फूलने के बाद बिल्कुल मुलायम पदार्थ की बन जाती है। अगर गोली को पेट से निकालने की जरूरत पड़ती है, तो मरीज को कैल्शियम का घोल पिलाया जाएगा, जिससे गोली तुरंत अपने पहले वाले आकार में आ जाएगी (छोटी हो जाएगी) और शरीर से बाहर निकल जाएगी।

कैसे बनाई गई है ये गोली

‘नेचर कम्यूनिकेशन्स जर्नल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, ये गोली दो तरह के हाइड्रोजेल्स से बनाई गई है। ये हाइड्रोजेल, पॉलीमर्स और पानी के मिश्रण से जेल के रूप में बनाया गया है। इन दोनों पदार्थों से बने होने के कारण जब कोई व्यक्ति ये गोली खाता है, तो ये पेट में फूलने लगती है। लैब में इस गोली को कई तरह के सॉल्यूशन्स में टेस्ट किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

d8eef6a56c99d87b81e4fd3ff23419d8d21bfd52